Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Captcha *
Reload Captcha

Related image

 

 

नई दिल्ली। Reliance Jio ने अपना बहुप्रतीक्षित 4जी फीचर फोन JioPhone लॉन्च कर दिया है। इस फीचर फोन को कंपनी के ​मालिक मुकेश अंबानी ने रिलायंस इंडस्ट्रीज की सालाना मीटिंग में पेश किया है। इसमें सबसे खास बात ये है कि कंपनी की ओर से JioPhone ​बिल्कुल फ्री में दिया जा रहा है। लेकिन इसके लिए कंपनी की ओर से यह फोन लेने वाले ग्राहक से 1500 रुपए रिफंडेबल मनी के तौर पर 3 साल के लिए जमा करवाए जा रहे हैं। हालांकि 3 साल बाद ये 1500 रुपए ग्राहक को बिना ब्याज के वापस मिल जाएंगे, लेकिन यहां कई सवाल खड़े होते हैं जिनके बारे में फिलहाल कंपनी की ओर से कोई खुलासा नहीं किया गया है। वो इस प्रकार है...

 

 

— कंपनी ने इस बारे में कुछ नहीं कहा कि JioPhone लेने के बाद यदि वो 3 साल से पहले खराब हो गया और कस्टमर उसकी सर्विस नहीं लेता है तो भी क्या 1500 रुपए वापस मिलेंगे।

 

 

— यदि ग्राहक का JioPhone 3 साल से पहले खराब हुआ तो क्या कंपनी उसके बदले ग्राहक को नया फोन फ्री देगी अथवा नया फोन देने पर दुबारा 1500 रुपए लेगी।

 

0
0
0
s2smodern

 

एचडीएफसी रीयल्टी तथा एसबीआई कैपिटल मार्केट्स सहारा समूह की नीलाम की जाने वाली अचल संपत्तियों में से 10 की ई-नीलामी करेंगी जिनके लिए आरक्षित मूल्य करीब 1,200 करोड़ रुपये रखा गया है। बाजार विनियामक सेबी ने समस्याओं में घिरे सहारा व्यवसाय समूह की संपत्तियों को बेचने का काम दोनों कंपनियों को दिया है।


एचडीएफसी रीयल्टी को 31 भूखंड और एसबीआई कैप को 30 भूखंड नीलाम करने की जिम्मेदारी है। इनका अनुमानित बाजार मूल्य क्रमश: 2400 करोड़ रुपए और 4,100 करोड़ रुपए है। इनमें से कल दोनों पांच पांच सम्पत्तियों की नीलामी करेंगी।

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद एचडीएफसी रीयल्टी तथा एसबीआई कैप को सहारा की संपत्ति बेचने का जिम्मा सौंपा है। इन संपत्तियों का मालिकाना हक से जुड़े दस्तावेज समूह ने उच्चतम न्यायालय के पास जमा कराया है। न्यायालय से अनुमति मिलने के बाद दोनों इकाइयों ने इन संपत्तियों की नीलामी के लिये कदम उठाये हैं।

एक सार्वजनिक नोटिस में एचडीएफसी रीयल्टी ने कहा कि वह चार जुलाई को पूर्वाह्न 11 बजे से 12 बजे तक पांच भूखंडों की नीलामी करेगी। इन संपत्तियों से आरक्षित मूल्य पर करीब 722 करोड़ रुपये मिलने की उम्मीद है।

एसबीआई कैप ने एक अलग नोटिस में कहा कि वह सात जुलाई को पूर्वाह्न 10.30 से 11.30 के बीच 470 करोड़ रुपये के आरक्षित मूल्य पर पांच संपत्तियों की नीलामी करेगी।सहारा समूह की ये संपत्तियां आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ तथा उत्तर प्रदेश में स्थित हैं। इसमें कृषि एवं गैर-कृषि भूखंड शामिल हैं।

नीलामी में रूचि रखने वाले बोलीदाता आठ से 10 जून को भूखंड का निरीक्षण कर सकते हैं। न्यायालय के आदेश के अनुसार इन संपत्तियों को सर्किल दर के 90 प्रतिशत से कम भाव पर नहीं बेचा जा सकता है।दो साल जेल में रहने के बाद सहारा प्रमुख सुब्रत राय इस समय पैरोल पर हैं। उन्हें सेबी के साथ लंबे समय से जारी विवाद मामले में उच्चतम न्यायालय ने जेल भेजा था।

भाषा

 

0
0
0
s2smodern

Related image

नोटबंदी के बाद ज्यादा से ज्यादा कैशलेस ट्रांजैक्शनों को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार जल्द ही चेक बाउंस होने के मामले में कानून में बदलाव कर सजा को और सख्त कर सकती है। यह सुझाव व्यापारियों के असोसिएशन द्वारा सरकार को दिया गया है। यह असोसिएशन बजट तैयार किए जाने से पहले वित्त मंत्रालय के बड़े अधिकारियों से मुलाकात कर रही है।
  चेक बाउंस होने के डर से व्यापारी अपने ग्राहकों से चैक लेने में कतराते हैं। इसलिए व्यापारियों का सुझाव है कि चेक बाउंस के मामलों से बचने के लिए इससे संबंधित कानून में और अधिक सख्त सजा का प्रावधान किया जाए।

0
0
0
s2smodern

भारतीय मौसम विभाग द्वारा इस साल बारिश कम होने की संभावना से इनकार करने के एक दिन बाद उद्योग मंडल सीआईआई ने शुक्रवार को कहा कि कच्चे तेल के भाव में थोड़ी बढ़ोतरी की जो चिंता है वह सामान्य मानसून रहने से दूर हो जाएगी।


भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के अध्यक्ष नौशाद फोर्ब्स ने 2015-16 की आर्थिक वृद्धि दर को बेहद वास्तविक करार देते हुए कहा कि बुनियादी ढांचा क्षेत्र में निवेश और सरकार की सुधार को बढ़ावा देने की कोशिश से आर्थिक वृद्धि में उल्लेखनीय बढ़ोतरी हुई है।

उन्होंने कहा, ‘हमें पिछले एक-डेढ़ साल में कच्चे तेल में गिरावट से फायदा हुआ है। सारे संकेत हैं कि कच्चे तेल के दाम बढ़ेंगे लेकिन इसमें इस साल कोई नाटकीय बदलाव नहीं होगा।’ उन्होंने कहा, ‘सकारात्मक और सामान्य मानसून का प्रभाव अर्थव्यवस्था के लिए बेहद लाभकारी होगा और इससे तेल मूल्य से जुड़ी चिंताएं काफी हद तक दूर होंगी।’

पिछले सप्ताह कच्चे तेल की कीमत 50 डालर प्रति बैरल को छू गई जिससे मुद्रास्फीति और वृद्धि बढ़ने की चिंता पैदा हुई है। उन्होंने कहा कि सामान्य मानसून का फायदा कृषि वृद्धि पर पड़ेगा जिससे अर्थव्यवस्था में मांग बढ़ेगी। यह पूछने पर कि इस सप्ताह जारी आर्थिक वृद्धि के आंकड़े कितने वास्तविक हैं, उन्होंने कहा, ‘ये आंकड़े काफी वास्तविक हैं। हमने आर्थिक वृद्धि में उल्लेखनीय वृद्धि देखी है। ऐसा सरकार द्वारा बुनियादी ढांचा निवेश और सुधार को आगे बढ़ाने की कोशिश के कारण हुआ।’

भाषा

0
0
0
s2smodern

 
 
जी हाँ हम बात कर रहे हैं बरेली जिले के SSVGI की जो की छात्रों के नंबर पर एक मैसेज करता है कि सरकारी योजना के अंतर्गत PGDM कोर्स बिलकुल फ्री करवाया जा रहा है जबकि ये छात्रों के साथ धोखा कर रहा है।
ये कोई फ्री में कोर्स नहीं करवा रहा,न ही ये कोई सरकारी योजना है।दरअसल ये उन छात्रों के नाम से UP SCHOLARSHIP का फॉर्म भर देता है और पूरी Scholarship अपने बैंक अकाउंट में मंगवा लेता है।।
 
ये धोका उन छात्रों के साथ तो है ही लेकिन सरकार के नाम का भी दुरप्रयोग है।।
0
0
0
s2smodern

 

 


राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी 25 मई को गुआंगचोउ शहर में भारत-चीन व्यापार मंच को संबोधित करेंगे जिसमें 300 से अधिक चीनी उद्योगपति व अधिकारी भाग लेंगे।भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के अध्यक्ष नौशाद फोर्ब्स 36 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल के साथ इस कार्य्रकम में भाग लेंगे। भारतीय अधिकारियों ने बताया कि चीन के 300 से अधिक उद्योगपति व कारोबारी अधिकारी इस कार्यकम में भाग लेंगे।
उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति द्वारा भारत में और अधिक चीनी निवेश की वकालत किए जाने की उम्मीद है। व्यापार मंच का उद्घाटन करने के बाद मुखर्जी बीजिंग जाएंगे जहां उनका राष्ट्रपति शी चिनपिंग सहित अन्य शीर्ष नेताओं से मिलने का कार्य्रकम है।

0
0
0
s2smodern

 

 

आजकल के सभी कनेक्टेड डिवाइस में ब्लूटूथ होता है. इसका इस्तेमाल दो डिवाइस के बीच डेटा ट्रांसफर करने के लिए होता है. इसलिए ये छोटी सी चीज़ आपके बड़े काम की है.

पिछले हफ्ते ब्लूटूथ का नया वर्ज़न लॉंच किया गया जो अब उसकी कनेक्टिविटी की रेंज को पहले से कहीं बेहतर कर देगा. लॉन्च के बाद की इस रिपोर्ट के मुताबिक़ उसकी रेंज अब चौगुनी हो गई है और डेटा ट्रांसफर की रफ़्तार दोगुनी. ब्लूटूथ अब पहले के मुक़ाबले आपके काफी काम की चीज़ बन गया है.

ब्लूटूथ से जुड़ी कुछ पुरानी बातों पर लोग अब भी भरोसा करते हैं. लेकिन आपके स्मार्टफोन या टैबलेट के लिए ये कैसे पहले से बेहतर काम करता है उसके बारे में बताते हैं.

अगर स्मार्टफोन या टैबलेट पर ब्लूटूथ ऑन छोड़ दिया तो बैटरी पर असर पड़ता है. ऐसा पहले होता था क्योंकि पुराने ज़माने का फ़ोन (तब स्मार्टफ़ोन नहीं होते थे) हमेशा कनेक्ट करने के लिए दूसरा डिवाइस ढूंढ़ता रहता था.

ब्लूटूथ4 के बाद अब ये 'लो एनर्जी मॉड्यूल' में काम करते हैं. इससे बैटरी पर असर अब काफी कम हो गया है. एक बार कनेक्शन होने के बाद डिवाइस नहीं के बराबर बैटरी पर काम करता है. अगर स्मार्टफोन ब्लूटूथ हेडसेट से कनेक्टेड है तो उसका असर बैटरी पर नहीं के बराबर होगा.


ब्लूटूथ सिर्फ छोटे कमरे में काम करता है, ये बात पूरी तरह सच नहीं है. ब्लूटूथ के क्लास 3 डिवाइस पर आप 10 मीटर से कम फ़ासले तक ही कनेक्ट कर सकते हैं, क्लास 2 डिवाइस पर कनेक्टिविटी करीब 10 मीटर तक की होती है और क्लास 1 डिवाइस पर कनेक्टिविटी 100 मीटर तक की मिल जाती है.

स्मार्टफोन पर आपको क्लास 3 या 2 वाला ही ब्लूटूथ मिलेगा. ब्लूटूथ वाई फाई के सिग्नल में बाधा डालता है. ब्लूटूथ और वाई फाई के सिग्नल एक ही फ्रीक्वेंसी पर काम करते हैं. लेकिन इसी फ्रीक्वेंसी पर घर का माइक्रोवेव ओवन भी काम करता है.

इसलिए ब्लूटूथ या वाई फाई की स्पीड इस पर निर्भर करती है कि पास में कौन से और डिवाइस काम कर रहे हैं. किसी भी ऑफिस में दर्जनों लोग काम करते हैं लेकिन उससे कनेक्टिविटी की रफ़्तार कम नहीं हो जाती है.


अगर आपके डिवाइस को लोग ब्लूटूथ के ज़रिये नहीं ढूंढ सकते हैं तो वो सुरक्षित होगा. ये सही नहीं है. ब्लूटूथ डिवाइस पर पासवर्ड या तो 0000 या 1234 होते हैं. इसकी वजह से कोई भी थोड़ी कोशिश करके आपके डिवाइस से कनेक्ट कर सकता है. इस पासवर्ड को बदल कर अपने काम का पासवर्ड रख लीजिए ताकि कोई आपके डिवाइस से बिना किसी वजह के कनेक्ट नहीं कर सके.

कई लोग घर के दो स्मार्टफोन के बीच में डेटा ट्रांसफर करने के लिए वाई फाई डायरेक्ट कर इस्तेमाल करते हैं. अब, जब ब्लूटूथ और बेहतर हो गया है, वाई फाई डायरेक्ट की तरह ही आपके पास एक और विकल्प है. कई बार अपने घर से पडोसी के घर तक भी आप आसानी से डेटा ट्रांसफर कर सकते हैं. शुरुआत में एक बार दोनों डिवाइस को कनेक्ट कर दीजिये उसके बाद एक दूसरे से कनेक्टेड रहना काफी आसान हो जाता है.

0
0
0
s2smodern

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) जुलाई से इक्विटी मार्केट में निवेश शुरू करेगा। यह जानकारी श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने दी। उन्होंने कहा कि यह कदम अर्थव्यवस्था को ब़़ढावा देने के लिए सुधारों की पहल का हिस्सा है। करीब 8 करोड़ सदस्यों की बदौलत 6,300 अरब रपए से अधिक की संपत्ति के साथ ईपीएफओ दुनिया के सबसे ब़़डे संगठनों में शुमार है।

ईपीएफओ अधिक मुनाफा कमाने के उद्देश्य से एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) में निवेश शुरू करेगा। दत्तात्रेय ने एक बातचीत में कहा, 'जुलाई में 1 फीसदी निवेश के साथ हम शुरआत कर रहे हैं। इस साल के अंत तक ईटीएफ में हमारा सालाना निवेश 5 फीसदी हो जाएगा।'



0
0
0
s2smodern

ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन को चूना लगाने वाले दो लोगों को पुलिस ने अरेस्ट किया है। आरोप है कि ऑनलाइन iPhones ऑर्डर करने के बाद रिटर्न पॉलिसी के तहत अमेजन को नकली हैंडसेट भेज देते थे। पुलिस ने बेचे गए 6 आईफोन भी जब्त कर लिए हैं। ऐसे हो रहा था फर्जीवाड़ा...
1. पुलिस के मुताबिक, आरोपियों ने आईफोन्स ऑर्डर करने के लिए फेक ईमेल आईडी बनाया।
2. आईफोन की डिलीवरी हो जाने के कुछ दिन बाद आरोपी कंपनी की रिटर्न पॉलिसी का इस्तेमाल करके मनी बैक का क्लेम कर देते।
3. आरोपी आईफोन के खराब होने, पैकेट खुले होने और लेटलतीफी जैसे बहाने बनाते हुए नकली हैंडसेट वापस करते थे।
4. असली आईफोन मार्केट में बेच देते थे। पुलिस ने 6 असली आईफोन मार्केट में बेच दिए थे। इन्हें बुधवार को पुलिस ने बरामद कर लिया।
इम्प्लॉई भी शामिल
- एडिशनल डीसीपी एन. कोटि रेड्डी ने बताया कि फर्जीवाड़े में शामिल एक आरोपी अंकुश बिराजदार अमेजन का इम्प्लॉई है।
- वो हैदराबाद सेंटर पर कंपनी का रिस्क इन्वेस्टिगेटर है। जबकि दूसरा आरोपी उसका दोस्त मीर फिरोज अली है।
- ऑनलाइन रिफंडिंग प्रोसेस में गड़बड़ी की भनक जब अंकुश के ऑफिस में बैठी टीम को लगी तो उन्होंने पुलिस में शिकायत की।
- पुलिस जांच करते हुए दोनों आरोपियों तक पहुंच गई। मामले की आगे जांच जारी है।

 

0
0
0
s2smodern

 

 

केंद्र सरकार, उद्योग जगत और आम जनता की मांग को लंबे समय से दरकिनार कर रहे रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन का दिल भी आखिरकार पसीज गया। उन्होंने गुरुवार की सुबह सभी को हैरत में डालते हुए रेपो रेट में 0.25 फीसद की कटौती के जरिये शुभ दिनों की शुरुआत कर दी। यह कदम न सिर्फ होम, ऑटो लोन व अन्य कर्जो को सस्ता करने का रास्ता साफ करेगा, बल्कि इससे देश में निवेश का माहौल बनाने में जुटी मोदी सरकार की कोशिशों को भी बल मिलेगा। यही वजह है कि रिजर्व बैंक (आरबीआइ) की इस घोषणा के बाद सेंसेक्स ने 729 और निफ्टी ने 217 अंक की छलांग लगाई 

0
0
0
s2smodern
  1. Popular
  2. Trending