Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Captcha *
Reload Captcha

बांग्लादेश ने ख़त्म किया 27 साल का सूखा

मीरपुर में शेर-ए-बांग्ला नेशनल स्टेडियम में खेले गए दूसरे एकदिवसीय अंतराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में मेज़बान बांग्लादेश ने भारत को 6 विकेट से हराकर तीन मैचों की सिरीज़ को रविवार को ही अपने नाम कर लिया.
दर्शकों से खचाखच भरे स्टेडियम में चारो तरफ लहराते बांग्लादेशी झंडों के बीच जीत के बाद जश्न का माहौल था.
इससे पहले बांग्लादेश ने कभी भी भारत से एकदिवसीय सिरीज़ नही जीती थी.
वैसे इस सिरीज़ के शुरू होने से पहले ही तमाम क्रिकेट विशेषज्ञ भारत को चेतावनी दे रहे थे कि वह इस बार बांग्लादेश से बचकर रहे.
पिछले दिनों पाकिस्तान को बांग्लादेश ने एकदिवसीय सिरीज़ में 3-0 से हराया था.ग्लादेश की जीत में उसके युवा तेज़ गेंदबाज़ मुस्तफिज़ुर रहमान का बड़ा योगदान रहा जिन्होंने दोनों मैचों में कुल मिलाकर 11 विकेट अपने नाम किए.
दरअसल वही दोनों टीमों में सबसे बड़ा अंतर साबित हुए.
पहले मैच में 79 रन से हार के साथ ही भारत का मनोबल कितना गिर चुका था इसका अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने दूसरे मैच में तीन बदलाव कर दिए.
अजिंक्य रहाणे, उमेश यादव और मोहित शर्मा की जगह अंबाती रायडू, अक्षर पटेल और धवल कुलकर्णी को शामिल किया गया, लेकिन नतीजा वही ढाक के तीन पात रहा.साल 2014 में भारत ने तीन एकदिवसीय मैचों की सिरीज़ में बांग्लादेश को 2-0 से हराया था.
इससे पहले भारत विश्व कप के सेमीफाइनल में ज़रूर पहुंचा लेकिन विश्व कप से पहले ऑस्ट्रेलिया में खेली गई त्रिकोणीय एकदिवसीय सिरीज़ में भारत एक मैच भी नही जीत सका था. वहां तीसरी टीम इंग्लैंड थी.
वैसे बांग्लादेश ने अभी तक जिन मैचों में भारत को हराया है वह इतेफ़ाक़ से उसके लिए यादगार ही बन गए.जब बांग्लादेश ने साल 2012 में भारत को हराया था तो उस मैच में भारत के महान बल्लेबाज़ सचिन तेंदुलकर ने अपने अंतराष्ट्रीय क्रिकेट करियर का सौंवा शतक बनाते हुए 114 रन बनाए थे.
उस हार ने उनकी पार्टी ख़राब की थी.
इसके अलावा बांग्लादेश ने साल 2007 में वेस्ट इंडीज़ में आयोजित विश्व कप में पोर्ट ऑफ स्पेन में भारत को 5 विकेट से हराया था.
उसके बाद तो भारत टूर्नामेंट से ही बाहर हो गया था.बांग्लादेश को भारत के ख़िलाफ अपनी पहली जीत के लिए 16 साल और पहली सिरीज़ जीतने के लिए 27 साल लंबा इंतज़ार करना पड़ा है.
दोनों देशों के बीच पहला एकदिवसीय मैच साल 1988 में चटगांव में खेला गया था जिसे भारत ने 9 विकेट से जीता था.
बांग्लादेश ने भारत को पहली बार साल 2004 में ढाका में 15 रन से हराया था.
इसके अलावा बांग्लादेश ने पिछले मैच में भारत को 79 रन से हराया.
कमाल की बात है कि जिस टीम ने तीन मैच जीतने में 27 साल लगाए उसने न केवल चार दिनों में ही दूसरा मैच जीत लिया बल्कि चैंपियंस ट्रॉफी में खेलने की उम्मीदें भी पैदा कर ली है.


0
0
0
s2smodern
  1. Popular
  2. Trending