Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Captcha *
Reload Captcha

ब्रेकिंग न्यूज

'सरकारी अस्पताल में मरीज का ईलाज होता है या फिर सम्भोग ?

जौनपुर : यह सवाल आज आज तब दिल-दिमाग को बुरी तरह मथ गया, जब आज अचानक मैं एक मरीज से मिलने जौनपुर जिला अस्पताल पहुंचा। काफी देर बाद शौचालय की जरूरत महसूस हुई। सरकारी शौचालय बहुत गन्दा था। मैंने एक डॉक्टर से निवेदन किया, तो उसने डॉक्टर्स-रूम भेज दिया। 

कमरे में चलते कई एसी पूरे कमरे को शीतल रखे थे। तीन बिस्तर भी सजे थे। अटैच्ड बाथरूम भी था। लेकिन अंदर जाते ही दिमाग भन्नाय गया। वहां के टॉयलेट के भीतर दो यूज़्ड कंडोम पड़े थे। समझ में ही नहीं आया कि सरकारी अस्पताल की असल जरूरत किस लिए होती है।

जाहिर है कि यह अव्यवस्था का मामला है। आप इस अस्पताल की इमरजेंसी के सामने लगे एक सरकारी बोर्ड पर नजर डालियेगा। यहाँ जो रोगी कल्याण समिति बनायी गई है, उसमें डीएम तो खुद को अध्यक्ष बनाये रखे है। बाकी डाक्टर सदस्य हैं। सब के सब निजी चिकित्सक। लेकिन हैरत की बात है कि जो विधायक शचीन्द्र त्रिपाठी है, उसे सबसे नीचे किसी वार्ड-ब्वाय या चपरासी की तरह दर्ज किया गया है। मानो, अभी समिति की बैठक होगी, और उसके बाद विधायक शचीन्द्र त्रिपाठी जूठे ग्लास और पत्तल उठाए के लिए लपकेगा।

क्या राय है शचीन्द्र मियां ? जुल्फी-प्रशासन कैसा चल रहा है?  मेज-टेबल-फर्श आदि साफ कर दिया या नहीं? जल्दी कर दो, वर्ना जुल्फी झटक पड़ेगी !


0
0
0
s2smodern
  1. Popular
  2. Trending