Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Captcha *
Reload Captcha

मुख्यमंत्री की लाख सख्ती के बावजूद भी गेहूं खरीद केन्द्रो पर बिचैलियों का दबदबा कायम

महराजगंज रायबरेली | मुख्यमंत्री की लाख सख्ती के बावजूद भी गेहूं खरीद केन्द्रो पर बिचैलियों का दबदबा कायम है। एसएमआई की खाऊ कमाऊ नीति के चलते एक अप्रैल से शुरू हुई सरकारी गेहूं खरीद अपने लक्ष्य से कोसो दूर दिख रही है। जिसका सबसे बड़ा कारण किसानों केा छोड़कर बिचैलियो व व्यापारियों को लाभ पहुंचाना है। जिसमें सबसे अहम भूमिका खरीद प्रभारी ही मोटी रकम कमाने के चक्कर मे निभा रहे हैं। जिसके चलते किसान अपनी फसल का उचित दाम पाने से वंचित हो रहा है और मजबूरन व्यापारियों के हाथ कम दामों में गेहूँ बेंचने को मजबूर है। बताते चलें कि सरकारी गेहूं खरीद केन्द्रों पर फैली अव्यवस्थाओं व प्रभारियों की खाऊ कमाऊ नीति के चलते जहां किसान केन्द्र के चक्कर लगाने को मजबूर है तो वहीं व्यापारी कमीषन देकर अपना गेहूं आराम से तौला रहे हैं। वहीं किसानों को कई कई दिनों तक कांटा खाली न होने, दूसरे किसानों की तौल हो रही है, बोरी नही है जैसे बहाने बनाकर दौड़ने को मजबूर किया जा रहा है। किसानों की माने तो गेहूं खरीद केन्द्रों पर जिन व्यापारियों की सेटिंग है वह अपना गेहूं आराम से तौला रहे है। यही नही प्रसाशन सख्त होने के कारण यह व्यापारी अपने किसी न किसी मजदूर को किसान बनाकर केन्द्र पर बैठाकर आराम से गेहूं तौला रहे हैं जबकि किसानों को टोकन  आदि के बहाने से कई कई दिनों तक चक्कर लगवाया जा रहा है। महराजगंज क्षेत्र में अतरेहटा स्थित मण्डी परिसर में तीन केन्द्र खोले गये हैं जिनमें से विपणन शाखा, यूपी एग्रो व कल्याण निगम हैं। मण्डी परिसर में केन्द्र होने के कारण व्यापारियों व बिचैलियों का जमावड़ा लगा रहता है और एसएमआई से सेटिंग कर यह व्यापारी 100 से 150 रूपये के कमीषन पर अपना गेहूं तौला रहे हैं। वहीं एसएमआई अमित कुमार सिंह का कहना है कि इस बार सिर्फ किसानों का ही गेहूं खरीदा जा रहा है। क्षेत्र के किसानों का कहना है कि गेहूं खरीद केन्द्रो की यदि गोपनीय जांच की जाये तो सारी कलई खुलकर सामने आ जायेगी।


0
0
0
s2smodern
  1. Popular
  2. Trending