Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Captcha *
Reload Captcha

भ्रष्टाचार! प्रधानमंत्री आवास योजना में खेल ही खेल......

-विभागीय अधिकारियों एवं संस्था के माध्यम से हो रही लूट खसोट
 
रायबरेली। प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना में पात्रों के चयन में भारी अनियमितता, जिला ग्राम विकास अभिकरण द्वारा इस योजना में फार्मो का वितरण व आॅन लाइन आवेदन में गलत तरीके से आवेदकों से पैसे की वसूली की गई। हद तो अब हो जाती है जब आवेदकों से आवास के लिए भारी रकम की मांग की जाती है। और रायबरेली शहर के लगभग 3000 हजार लोगों ने आवास के लिए आवेदन किया। रायबरेली जिला अभिकरण विभाग द्वारा तीन हजार आवेदन के उपरांत जाॅच के नाम पर 100 आवेदन निरस्त किये गये। और 2900 आवेदनों में सरजू बाबू कल्संनटेंट मुम्बई को जाॅच करना था। परन्तु विडम्बना की बात है कि प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना में जहाॅ भारत सरकार अच्छा काम करके गरीब शोषितों को सर पर छत देना चाहती है लेकिन जिला ग्राम अभिकरण अधिकारी की शिथिलता के चलते यहाॅ 2900 आवेदनों में अब तक 200 आवेदनों की जाॅच सरजू बाबू कल्संनटेंट द्वारा जिला ग्राम अभिकरण विभाग को भेजी गयी। लेकिन सरजू बाबू कल्संनटेंट का न तो रायबरेली जिले में कोई आॅफिस है और न ही इनका कोई प्रतिनिधि। प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जाता है कि जिन लोगों ने आवास के लिए आवेदन किये है उनके स्थलीय निरीक्षण के नाम पर कल्सनटेंट लखनऊ से रायबरेली आते है और गरीबों से आवास के नाम पर वसूली करते है, और जो लोग पैसा देने में आनाकानी करते है उनके आवास की जाॅच अपूर्ण रह जाती है। रायबरेली ग्राम विकास अभिकरण अधिकारी, यू तो लगातार चर्चा में रहते है क्योकि रायबरेली जनपद में पूर्व सरकार के समय से अभी तक जमे हुए है और जिसके चलते प्रदेश में सरकार बदल गयी है परन्तु रायबरेली में जिला ग्राम अभिकरण आज भी पूर्व सरकार की मंशा पर ही कार्य कर रहा है। क्योकि जिला अभिकरण अधिकारी द्वारा बताया गया कि प्रधानमंत्री आवास योजना में जिस संस्था को कल्संनटेंट रखा गया है वह संस्था मुंम्बई की है संस्था का नाम सरजू बाबू कल्संनटेंट है। शहरी आवास योजना में यह संस्था उत्तर प्रदेश के कई महानगरों में भी पूर्व सरकार में कार्य कर रही थी और आज भी कागजों पर वहीं संस्था कार्य कर ही है। हद तो तब हो गई जब ग्राम अभिकरण अधिकारी ने बताया कि जिलाधिकारी वाराणसी द्वारा इसी संस्था सरजू बाबू कल्संनटेंट के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायतों पर एफआईआर दर्ज करायी है। यह संस्था लखनऊ मंण्डल व गोरखपुर, आजमगढ़, एवं बनारस में प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना का निरीक्षण कर जिला अभिकरण विभाग को रिर्पोट देने का जिम्मा ले रखा है। जिला ग्राम अभिकरण द्वारा अब तक आंख बंद करके इस भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया जा रहा है। क्योकि आज तक कोई भी कार्यवाही नहीं की गई है। इससे यह जाहिर होता है कि अभिकरण विभाग के अधिकारी इस भ्रष्टाचार में सलिप्त है। क्योंकि सरजू बाबू कल्संनटेंट मुम्बई इकलौती संस्था है जो रायबरेली में काम कर रही है। इसके जिला समन्वय पंकज कुमार बताये जाते है। इतने दिनों से प्रधान मंत्री आवास योजना अधिकारियों की लापरवाही से ग्राम अभिकरण विभाग द्वारा योजना को मजाक बना दिया गया है जो कि उन गरीबों के लिए भारी पड़ रही है। जिनकों की यह आस थी की सर ठकने के लिए हमारा खुद का आवास हो जायेगा। 

0
0
0
s2smodern
  1. Popular
  2. Trending