Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Captcha *
Reload Captcha

धान क्रय केंन्द्रो मे किसानों को टोकन लेने में करना पड रहा लम्बा इंतजार

रायबरेली। सरकारी धान क्रय केंन्द्रो मे किसानों को धान तौल करवाने के लिये टोकन लेने में लम्बा इंतजार करना पड रहा है। इसी का इंतजार करते-करते किसान अपनी फसल बिचैलियों के हाथों बेचने को मजबूर है। महराजगंज क्षेत्र के किसान बिजय यादव व दिनेश ने बताया कि दर्जनों बार खरीद केन्द्र पर जाने के बाद उनको अभी तौलाई की भीड ज्यादा बताकर बैंरग वापस कर दिया जाता है। बाद में उन्होने अपनी धान की फसल को औने-पौने दामो पर बेचने को मजबूर है। जबकि प्रदेश सरकार ने किसान की फसल बिचैलियो व दलालों के चंगूल से बचाकर उनके उत्पाद का उचित मूल्य दिलाने के लिए धान की सरकारी खरीद मूल्य निर्धारित करके विभिन्न सरकारी व अर्द्वसरकारी संस्थाओं से करवाती है। सरकारी खरीद मूल्य व खुले बजार के मूल्य से थोडा अधिक मंहगा होता है लेकिन वह अंतर कभी-कभी कष्टदायक होने लगता है सरकार की दुकान यनि खरीद केंन्द्र पर धान दुबारा सफाई-छनाई होती जबकि खुले बाजार में ऐसा कुछ नही होता है सरकारी खरीद केन्द्र पर आप जब चाहे तब अपनी फसल बेचकर पैसा लेकर अपनी जरूरत पूरी नही कर सकते है। जबकि खुले बाजार में टोकन नही जारी होते है बल्कि तत्काल धान तौल करके भुगतान दे दिया जाता है इस बार हो रही धान की खरीद सरकार के तमाम दबाव के बावजूद पारदर्शी भ्रष्टाचार रहित नही हो पा रही है कुछ खरीद ऐजेन्सियों ने बिचैलियों के नाम का टोकन सूची में सामिल कर लिया है उनके डेढ सौ से दो सौ रूपये प्रति कुन्तल लिया जा रहा है। जिसके कारण किसान को अपनी धन की फसल को बेचने के लिए दर-दर भटना पड रहा है सरकारी खरीद केन्द्र किसानो के लिए मजाक साबित हो रहे है। महराजगंज क्षेत्र के किसानों के पास अधिकतर महीन धान की उपज ज्यादा हुई जो मोटे धान से मंहगा बिकने वाला धान है। सरकारी खरीद केन्द्र पर जो पूंछा भी नही जा रहा है मजबूर होकर किसान को एसएमआई के सेटिंग-गेटिंग वाले दलालो के हाथ 13 से 14 सौ रूपये प्रति कुंतल बेचने मे मजबूर है। किसान की मजबूरी को कोई अधिकारी व सरकार देखने वाला कोई जिम्मेदार प्रतिनिधि नहीं है जिससे कि देश के अन्नदाता किसान अपनी फसल की उपज को औने पौने दामों पर बेचने के लिए मजबूर है ।


0
0
0
s2smodern
  1. Popular
  2. Trending