Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Captcha *
Reload Captcha

सुपरस्टार पिताओं के नाकामयाब बच्चे

बॉलीवुड में सिक्का जमाने के लिए कोई 'गॉडफ़ादर' होना ज़रूरी माना जाता है.
लेकिन अगर माता-पिता फ़िल्म इंडस्ट्री से हैं तो करियर की राह थोड़ी आसान हो जाती है.
हालांकि बॉलीवुड में कई ऐसे अभिनेता भी हैं जिनके माता-पिता फ़िल्म इंडस्ट्री की जानी-मानी हस्ती हैं लेकिन उनके बच्चों को वही कामयाबी नसीब ना हो सकी.
अभिषेक बच्चन अभिनेता अमिताभ बच्चन के बेटे अभिषेक बच्चन ने साल 2000 में जेपी दत्ता की फ़िल्म 'रिफ़्यूजी' से करियर शुरू किया था.
इस फ़िल्म का बॉक्स ऑफ़िस पर बुरा हाल रहा. एक हिट फ़िल्म के लिए अभिषेक बच्चन को क़रीब चार साल इंतज़ार करना पड़ा.
इस दौरान उनकी 14 फ़िल्में फ्लॉप रहीं. साल 2004 में आई मणिरत्नम की फ़िल्म 'युवा' अभिषेक बच्चन की पहली हिट फ़िल्म थी.
इसके बाद उनकी 'बंटी और बबली', 'गुरू', 'धूम' और 'सरकार' जैसी चंद फ़िल्मों को ही सफलता मिली लेकिन अभिषेक अपने पिता जैसी शोहरत के नज़दीक भी नहीं पहुंच पाए.
बॉबी देओल अपने जमाने के एक्शन स्टार धर्मेंद्र के बड़े बेटे सनी देओल ने फ़िल्म इंडस्ट्री में अपनी जगह बनाई लेकिन छोटे बेटे बॉबी देओल उम्मीद के मुताबिक मुकाम हासिल नहीं कर सके.
साल 1995 में करियर शुरू करने वाले वाले बॉबी देओल करीब 41 फ़िल्मों में काम कर चुके हैं.
इनमें से 'गुप्त', 'सोल्जर', 'बादल', 'हमराज़' और 'दोस्ताना' जैसी फ़िल्मों को ही कामयाबी मिल सकी.
मशहूर अभिनेता जीतेंद्र की बेटी एकता कपूर ने बतौर निर्माता टीवी और फ़िल्मों में अपना सिक्का जमाया लेकिन उनके बेटे तुषार कपूर अभिनेता के तौर पर ख़ास पहचान नहीं बना सके हैं.
अपनी भारी भरकम आवाज़ से लोगों को 'खामोश' करने वाले अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा के बेटे लव सिन्हा ने साल 2010 में फ़िल्म 'सदियां' में काम किया.
ये फ़िल्म ना समीक्षकों को पसंद आई और ना ही दर्शकों को.
सदाबहार अभिनेता देवानंद के बेटे सुनील आनंद ने 80 के दशक में 'आनंद ही आनंद', 'कार थीफ़' और 'मैं तेरे लिए' जैसी फ़िल्मों के ज़रिए बॉलीवुड में अपना सिक्का जमाने की कोशिश की लेकिन हर बार मुँह के बल गिरे.
उन्होंने साल 2001 में फ़िल्म 'मास्टर' से बॉलीवुड में निर्देशक के तौर पर दूसरी पारी शुरू करनी चाही पर इसमें भी नाकाम रहे.
'डिस्को डांसर' मिथुन चक्रवर्ती के बेटे महाअक्षय चक्रवर्ती ने साल 2008 की फ़िल्म 'जिम्मी' से बॉलीवुड में क़दम रखा.
फ़िल्म ना तो समीक्षकों को रास आई और ना ही दर्शकों को भायी. महाअक्षय आज भी अपने पिता से अलग पहचान बनाने की कोशिश में लगे हैं.
'क़ुर्बानी', 'धर्मात्मा', 'जाँबाज़' जैसी ज़बरदस्त फ़िल्में बनाने वाले अभिनेता और निर्माता-निर्देशक फ़िरोज़ ख़ान ने इकलौते बेटे फ़रदीन ख़ान को 'प्रेम अगन' फ़िल्म से लांच किया.
फ़रदीन ने राम गोपाल वर्मा की कुछ फ़िल्मों में काम किया जिन्हें सफलता भी मिली लेकिन पिता की मौत के बाद उनके फ़िल्मी सफ़र पर विराम सा लग गया.


0
0
0
s2smodern
  1. Popular
  2. Trending